आज के रचना

उहो,अब की पास कर गया ( कहानी ), तमस और साम्‍प्रदायिकता ( आलेख ),समाज सुधारक गुरु संत घासीदास ( आलेख)

रविवार, 23 जनवरी 2022

देश हमारा

मधुकर वनमाली
 
प्यारा भारत देश हमारा
गौरव अपनी माटी पर
विश्व मुकुट धारण करता है
मेघ माल शोभित सिर पर।


धवल शिखर से निकली नदियाँ
गंगा जमुना कहलाती
सकल धरा को सींच सींच कर
शस्य श्यामला कर जाती
लहराती धानों की बाली
गूंज उठे कृषकों के स्वर।
प्यारा भारत देश हमारा
गौरव अपनी माटी पर।


राम श्याम की पुण्य भूमि यह
बुद्ध अहिंसा सिखलाते
गुटबंदी से अलग रहे हम
सदा सत्य की जय गाते
लेकिन फरसा परशुराम का
धार नही उसकी मंथर।
प्यारा भारत देश हमारा
गौरव अपनी माटी पर।।


सुंदर मौसम चमकीले सब
ऋतुओं का श्रृंगार बड़ा
पीत वसन सी फूली सरसों
खिल उठता कचनार बड़ा
बम बम बोल उठेगा काशी
जो सावन बरसे जलधर।
प्यारा भारत देश हमारा
गौरव अपनी माटी पर।


मिट्टी की कुटिया के भीतर
लाज सँभाले जाते हैं
गुदड़ी के खिलते सुमनों से

लाल निकाले जाते हैं
उसी देश का अभिनंदन है
शीश झुकाता हूं बढ़ कर।
प्यारा भारत देश हमारा
गौरव अपनी माटी पर।



मुजफ्फरपुर बिहार

मो 7903958085